Thursday, 4 May 2017

धुप से करें इस रोग का इलाज


धुप हमारी health (सेहत) के लिए ज़रूरी चीजों में से एक है हम ये भी कह सकते हैं की
धुप कुदरत का दिया हुआ एक ऐसा अनमोल तोहफा है  जो हमसब को बहुत सारी बीमारियों  से बचाता है धुप लेना हमारी health के लिए बहुत ज़रूरी है.
धुप को लेकर एक कहावत भी कही जाती है की   " जिस घर में धुप नही जाता उस घर में डॉक्टर ज़रूर जाता है " ये  बात सही भी है क्योंकि धुप और ताज़ा हवा की वजह से बहुत सारे खतरनाक बैक्टीरिया मर जाते हैं जो बहुत सारी बीमारियों के कारण बनते हैं.

health-benefit-if-sun-light



धुप ना लेने की वजह से होने वाले  नुक्सान -

धुप की कमी के कारण ज़्यादातर बच्चों में रिकेट्स नाम की बिमारी हो जाती है जो बेहद खतरनाक बीमारी होती है और इस बिमारी का मुख्य कारण शारीर में  विटामिन डी की कमी होना है जो हमें सूरज की किरणों से ही मिलती है.

रिकेट्स से होने वाले नुकसान –
  • सर बड़ा और चौकोर हो जाता है
  • माथे की हड्डी सामने से बढ़ जाती है
  • मसूड़ा ख़राब हो जाता है
  • दांत देर से निकलता है  
  • सर की हड्डी खोखली सी हो जाती है हल्का सा दबाने पर दबती है
  • पीठ पर कूबड़ निकल आता है
  • सीना सामने से उभर जाता है
  • कलाई चौड़ी हो जाती है
  • टांग की हड्डी मुड़ जाती है

धुप लेने का सही समय –

धुप को हर समय नही लिया जाता जा सकता है क्योंकि धुप में खतरनाक किरणें भी होती है जो फायदा के बजाय नुकसान पहुचां सकती है इसलिए धुप हमेशा सुबह में सूरज निकलने के तुरंत बाद तथा सूरज डूबने से करीब आधा घंटा पहले ही धुप हासिल करना फायदा होता है .
अगर आप भी इस बीमारी से बच्चों को बचाना चाहते हैं तो बच्चों को ज़रूर धुप में लेटाया करें.

हर उम्र के लोगों को बच्चा हो जवान हो या फिर बुढ़ा हो को धुप लेना ज़रूरी है धुप में इतनी देर तक रहें की चमड़ी गरम हो जाए.

अब आप भी समझ गए होंगे की धुप हमारी health के लिए कितनी ज़रूरी है.

0 comments

Post a Comment